29 दिस॰ 2016

विधायक मदन गोपाल का टिकट कटा, जनपद में  सपा की नई सूची से मची खलभली

 

⚫  अयाह से रीता का टिकट कटा
⚫  जहानाबाद से बीना प्रत्याशी
⚫  बसपा से आए पूर्व मंत्री अयोध्या पाल को शाह-अयाह से टिकट 

                    

फतेहपुर : सपा में अंदरखाने की चल रही तकरार का असर जिले की राजनीति में भी हलचल मचा रही है। बुधवार राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा जारी की गई प्रत्याशियों की सूची में चौंकाने वाली बात यह रही कि जिले में सपा के एकलौते विधायक मदनगोपाल वर्मा का टिकट जहानाबाद से काट दिया गया है। उनकी जगह प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल की नजदीकी मानी जा रही बीना पटेल को चुनाव लड़ने की हरी झंडी दे दी गई। विधायक का टिकट कटने से उनके समर्थकों में मायूसी छा गई।

                            

पार्टी के पारिवारिक विवाद की आंच से घोषित प्रत्याशी भी नहीं बच पा रहे है। शाह-अयाह विधानसभा से परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद के नजदीकी मानी जा रही रीता प्रजापति का टिकट काट कर हाल ही में बसपा छोड़कर सपा में शामिल हुए पूर्व मंत्री व विधायक अयोघ्या पाल को टिकट दिया गया है। ¨बदकी से अमरजीत सिंह जनसेवक, खागा से विनोद पासववान, फतेहपुर सदर से चंद्र प्रकाश लोधी, हुसेनगंज से मो. शफीर का टिकट में यथावत बना हुआ है। दोपहर बाद जैसे ही नई सूची जानकारी हुई प्रत्याशियों व समर्थकों में हलचल मच गई। जहानाबाद विधायक मदन गोपाल का टिकट आखिर किन कारणों से कट गया यह सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बना रहा। 

                            

चुनाव के ऐनवक्त पर जिस तरह से टिकटों में फेरबदल हो रहा है उससे जहां प्रत्याशी ऊहापोह में है, वहीं आम जनता भी किसी को पक्का नहीं मान रही। प्रदेश स्तर पर टिकटों में चल रही कतरब्योंत से स्थिति यह है कि घोषित प्रत्याशियों के विरोध में पार्टी के दावेदार लगे हुए है। पार्टी नेताओं तक अपनी पकड़ व प्रत्याशियों की कमजोरी के सबूत भेज कर टिकट के लिए गणोश परिक्रमा कर रहे हैं।


टिकट वितरण में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सूची में कुछ नाम बदले हुए होने की चर्चा छायी रही। ¨बदकी विधानसभा से दयालू गुप्ता का नाम होने की खबर कई चैनलों में चल गई तो सियासी गलियारों में तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी। सूत्रों ने बताया कि जिले के कुछ और टिकटों में फेर-बदल हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:
Write टिप्पणियाँ

ब्लॉग़ की रचनाओं को पढ़कर आपके मन में कुछ ना कुछ भाव तो जागेंगे ही, चाहे वह आलोचना हो या तारीफ़ या फ़िर एक समालोचना, तो फ़िर हिचक किस बात की, बस लिख डालिए यहां अपने विचार टिप्पणी के रुप मे। आपकी टिप्पणी का सदा स्वागत है।
धन्यवाद!

a href="YOUR LINK">YOUR TEXT /a