15 जन॰ 2022

फतेहपुर Live : फरवरी में मिलेंगी जिले को दो अनूठी स्वास्थ्य सेवाएं, ब्लड कंपोनेंट यूनिट और डायलिसिस यूनिट होंगी जल्द शुरु

फतेहपुर Live : फरवरी में मिलेंगी जिले को दो अनूठी स्वास्थ्य सेवाएं,  ब्लड कंपोनेंट यूनिट और डायलिसिस यूनिट होंगी जल्द शुरु


फतेहपुर Live । अगले महीने से जिला अस्पताल में ब्लड कंपोनेंट और डायलिसिस यूनिट चालू हो जाएंगी। दोनों यूनिटों के चालू होने के बाद जिले के रोगियों को पड़ोसी जिले कानपुर, लखनऊ और कौशांबी के चक्कर लगाने से छुटकारा मिलेगा।


जिले में मेडिकल कॉलेज अस्तित्व में आने के बाद जिला अस्पताल को कई आधुनिक चिकित्सीय सुविधाएं मिलनी है। फिलहाल तो डायलिसिस यूनिट लग चुकी है। इसे पुरुष अस्पताल का प्राइवेट वार्ड तोड़कर स्थापित किया गया है।



यहां पर सभी मशीनें लग चुकी हैं। तीन बेड़ों वाली इस यूनिट में एक दिन में नौ रोगियों की डायलिसिस होगी। रोगियों की संख्या बढ़ने पर बेड़ों का संख्या बढ़ाई जाएगी।


यूनिट संचालित करने के लिए प्रतिदिन आठ हजार लीटर पानी की जरूरत है। अभी इसकी व्यवस्था नहीं हो पाई है। जल्द ही चार-चार हजार लीटर की दो टंकियां रखकर अस्पताल के सबमर्सिबल पंप से भरने की तैयारी हो रही है।


इसके साथ ही जिला अस्पताल के ब्लड बैंक के बगल में ब्लड कंपोनेंट यूनिट बनाने का काम तेजी के साथ चल रहा है। करीब 56 लाख की लागत वाली इस यूनिट के चालू होने के बाद एक यूनिट रक्त से तीन रोगियों की जान बचाई जा सकेगी।


इस यूनिट का काम रक्त से प्लाज्मा, प्लेटनेस और खून अलग करना होगा। इससे जरूरत के हिसाब से रोगियों को उपलब्ध कराया जाएगा। अभी तक ब्लड बैंक में ब्लड का स्टाक और उपलब्ध कराने तक सीमित है।


ब्लड कंपोनेंट यूनिट और डायलिसिस यूनिट जिले के रोगियों के लिए वरदान हैं। अभी तक जिले के करीब 55 से 60 रोगी प्रति दिन कानपुर, लखनऊ, कौशांबी और प्रयागराज डायलिसिस कराने जाते हैं।


प्लेटनेस और प्लाज्मा की कमी होने पर रोगी को बाहर भेजना पड़ता है। इन दोनों यूनिटों के चालू होने पर संबंधित रोगियों को बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। डॉ. प्रभाकर, सीएमएस जिला अस्पताल

15 नव॰ 2021

गंगा तीरे महक उठी जिले की माटी, आयोजित हुई जब फतेहपुर फोरम की सालाना परिपाटी, तय हुआ विकास का एजेंडा

गंगा तीरे महक उठी जिले की माटी, आयोजित हुई जब फतेहपुर फोरम की सालाना परिपाटी


■  तय हुआ विकास का एजेंडा

● - नमामि गंगे योजना के द्वारा गंगा तट भिटौरा को डाल्फिन संरक्षित क्षेत्र घोषित करना।
● - ससुर खरेदी नदी एक,दो व अखनई सहित अन्य झीलों को पुर्नजीवित करने के प्रयास।
● - आर्मी भर्ती के लिए प्रशिक्षण के लिए तैयारियों में संसाधनों का इंतजाम।
● - शिक्षा के क्षेत्र में विकास के लिए विद्यालयों में खेलकूद व पुस्तकालय की व्यवस्था।


फतेहपुर  ।  ओमघाट भिटौरा में रविवार को प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी माटी से माटी अभिनंदन कार्यक्रम की चौदहवीं कड़ी का आयोजन किया गया। जिसमें विभिन्न स्थानों में रहकर देश की सेवा कर रहे जिले के गौरवशाली विभूतियों का जमावड़ा लगा। जहां रोजगार, जल संरक्षण समेत जिले के विकास का लेकर आपस में मंथन किया गया। कार्यक्रम में सभी विभूतियों का फूलमाला के साथ शॉल व प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। 

धर्म-अध्यात्म की अलख के साथ रविवार को ओम घाट में 'जननी जन्म भूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी' का भाव हर मन में हिलोरे मार रहा था। गंगा तीरे माटी की विभूतियों का संगम हुआ तो विकास की चिता भी परवान चढ़ी। फूलों की लड़ी से एकता की डोर में बंधने के साथ सभी ने संकल्प लिया कि जो जहां भी जिस मुकाम पर है, जन्मभूमि के लिए त्याग व समर्पण से काम करते रहेंगे। हर तरह का योगदान देकर माटी का कर्ज उतार लेंगे तो जीवन धन्य जो जाएगा। बाहर से आए माटी के लाल अपनों के प्यार और दुलार से गदगद हो गए।

कार्यक्रम में सबसे पहले करोना के दौरान फ़तेहपुर से दिवंगत आत्माओं की शान्ति के लिए दो मिनट का मौनव्रत धारण कर भगवान से प्रार्थना की गई । 


फतेहपुर फोरम के संयोजक स्वामी विज्ञानानंद की उपस्थिति में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के संयोजक शैलेंद्र परिहार, मेवा लाल मौर्य एडवोकेट, सुधाकर अवस्थी, प्रदीप कुमार श्रीवास्तव के तत्वाधान में कार्यक्रम का शुभाम्भ किया गया। 

सर्व प्रथम परिचय सम्मेलन हुआ। उसके बाद बीते वर्ष के कार्यक्रम में हुई चर्चा और उस पर हुए अमल पर मंथन हुआ। एक मंच में जमा हुए जिले की विभूतियों ने एक स्वर में जिले के विकास को लेकर दम भरा। आयोजकों ने मंच में आए करीब चार दर्जन से अधिक विभूतियों को सम्मानित किया गया। सुबह से लेकर शाम तक चले कार्यक्रम में एकजुट हुए लोगों ने एक दूसरे के कुशलक्षेम पूछा और मिलने की खुशी जाहिर की। इस मौके पर शैलेन्द्र शरन सिम्पल, राजेन्द्र साहू समेत अन्य तमाम लोग मौजूद रहे।

स्वामी विज्ञानानंद सरस्वती के इस मौके पर कहा कि हमारा उद्देश्य जिले को विकास को बुंलदियों तक पहुंचाना है। खासकर जल ही जीवन को ध्यान में रखते हुए नदी, तालाब, झील को संरक्षित करने की दिशा व युवाओं के स्वावलंबन पर काम होना चाहिए। कार्यक्रम के संयोजक प्रदीप श्रीवास्तव ने कहा कि फतेहपुर फोरम एक ऐसा मंच है जिसमें जिले ,प्रदेश , देश व विदेश में रह रहे माटी की विभूतियों को मिलाया जाता है। 

नदियों , झीलों के जीर्णोद्धार एवं डॉल्फ़िन संरक्षण पर विशेष प्रयास में गति देते हुए संचालन कर रहे श्री राजीव तिवारी जी के नमामि गंगे के साथ किए गए प्रयास की सराहना की गई । 


सैनिक भर्ती में नौजवानों को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष कैम्प आयोजित कर उनके शारीरिक एवं लिखित परीक्षा के प्रशिक्षण का खाका तैयार किया गया । इस काम में लेफ़्टिनेंट कर्नल श्री विनोद त्रिपाठी एवं लक्ष्य एकादमी के एमडी आरपी सिंह ने विशेष उत्साह दिखाते हुए 23 नवम्बर से बिंदकी में दस दिन का स्पेशल कैम्प चलाने की घोषणा की जो सुबह नौ बजे से पाँच तक संचालित होगा।

कमिशनर इनकमटैक्स जयंत मिश्र ने अपने पिता स्वर्गीय प्रोफ़ेसर प्रमोदचंद्र मिश्रा फ़ाउंडेशन के नाम पर एक स्कालरशिप की घोषणा कर जिले के दो प्रतिभाशाली बच्चों को चुनकर प्रेरणा दायक कदम उठाया। दसवी कक्षा में हिमांशी विश्वकर्मा , जिसने उत्तर प्रदेश में पाँचवाँ स्थान और जिले में पहला स्थान हासिल किया है तथा जीआईसी फ़तेहपुर में दसवी कक्षा में सर्वोच्च अंक हासिल करने वाले अभय मौर्य को मेडल व  ₹10,000/ का नक़द पुरस्कार देकर दोनो प्रतिभाशाली बच्चों को सम्मानित किया। 

सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक स्थलों के रखरखाव और उन्हें टूरिज़्म सर्किट से जोड़कर अपनी धरोहर को मुख्य धारा में जोड़ने हेतु एक अभिनव प्रयोग की महत्ता पर बल दिया गया।  शिक्षा,  स्वास्थ्य , रोजगार आदि मुद्दों पर सभी के प्रयासों की प्रशंसा की गई । 

इन विभूतियों का हुआ सम्मान
माटी से माटी अभिनंदन कार्यक्रम में 78 लोगों का सम्मान किया जाना था। जिसमें साहित्यकार, पत्रकार, समाजसेवी, उद्योगपति आदि लोग शामिल किए गए। कार्यक्रम में उपस्थित हुए  लोगों को सम्मानित किया गया। जिनमें भरत मान सिंह एडवोकेट, लेफ्टीनेंट कर्नल अभिषेक मान सिंह, सर्जन डा. प्रशांत कुमार, सुमय्या सिंह एडवोकेट,  सतीश द्विवेदी, साहित्यकार डा. चंद्रिका प्रसाद ललित, शिवशरण सिंह अंशुमाली, एमडी आरबी सिंह, व्यवसायी सोमचंद्र गुप्त, जलयोद्धा उमाशंकर पांडेय, स्टैंडिग काउंसिलिंग हाईकोर्ट उपेंद्र कुमार, इंजीनियर शैलेंद्र तिवारी, बीडीओ शिवानी मिश्र , रक्षा पांडेय, पत्रकार दिलीप सिंह, हाईस्कूल टापर हिमांशी विश्वकर्मा, व अभय मौर्य रहे। 

साहित्यकारों में प्रेमनन्दन, रामनरेश सिंह चौहान, चंद्रभान सिंह त्यागी, यजुवेंद्र नागर, प्रोफ़ेसर जगदीश कुशवाहा , शिवशरण बंधु , महेश चंद्र त्रिपाठी, वारिस अंसारी, मधुसूदन दीक्षित, शिवम् हथगामी, प्रवीण प्रसून , सीमा बाजपेयी, आकांक्षा द्विवेदी, शिवम हथगामी, राम कृपाल उज्जवल, शिवशरण सिंह चौहान, केपी सिंह कछवाह, शिवप्रताप सिंह, कमर सिद्दीकी, तरन्नुम नाज, सुमनलता मौर्य, कर्नल विनोद कुमार, डॉ. सूर्य कुमार आईपीएस सेवानिवृत्त, सोम चंद गुप्ता उद्योगपति, भारत मान सिंह एडवोकेट, नरेंद्र जैन एडवोकेट, शालिनी सिंह, राम सजीवन, निलेश मौर्य, आदि लोग शामिल रहे। सभी विद्वान हस्तियों को विशेष रूप से सम्मानित कर इस साल साहित्य वर्ष के रूप में मनाने का निर्णय हुआ।

कार्यक्रम में उप संयोजक डा.एमसी तिवारी,शैलेंद्र सिंह परिहार, सुधाकर अवस्थी, राजेंद्र साहू, मेवालाल मौर्य, विभव मान सिंह, संतोष तिवारी, आरपी मौर्य विद्याभूषण तिवारी, शैलेंद्र शरण सिपल, कविता रस्तोगी, कुलदीप सिंह, पंकज त्रिपाठी भी आदि रहे।


शहीद सैनिक के माता पिता का सम्मान
गंगा तीरे एकजुट हुईं जिले की विभूतियों के सम्मान के साथ ही देश के लिए शहीद हुए अमौली ब्लाक के खदरा गांव के सैनिक राजेश की माता कमला एवं पिता छोटेलाल का भी सम्मान किया गया। इस दौरान न शहीद के माता पिता की आंखे नम हुईं बल्कि उपस्थित लोगों में भी सहानुभूति प्रकट होती नजर आई। सभी ने शहीद सैनिक माता पिता पर गर्व महसूस किया। 

साथ ही यह निर्णय किया गया कि शहीदों के सर्वोच्च बलिदान के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए एक नए भव्य वीर /शौर्य स्तम्भ का निर्माण कर जनपद को समर्पित किया जाएगा साथ ही पहले से स्थापित शहीद स्मारक, जो कि सैनिक कल्याण बोर्ड कार्यालय परिसर पर स्थित है, उसके नवीनीकरण पर बल दिया गया।
 


शाम को फतेहपुर फोरम के एक प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी फतेहपुर अपूर्वा दुबे से मिलकर अपनी प्राथमिकताओं से उन्हें अवगत कराते हुए जिला प्रशासन के सहयोग की अपेक्षा रखी।

25 अप्रैल 2021

फतेहपुर Live : 5000 पार हो गए जनपद में कोरोना संक्रमित

फतेहपुर Live : 5000 पार हो गए जनपद में कोरोना संक्रमित


फतेहपुर। कोरोना संक्रमण खतरे की घंटी बजा रहा है। तेजी से बढ़ रही कोरोना संक्रमितों की संख्या से हालात बेहद खराब होते जा रहे हैं। शनिवार को 256 सैंपल की मिली रिपोर्ट में 96 नए केस सामने आए हैं। इन मामलों के साथ जिले में कोरोना से बीमार होने वालों की तादाद 5000 का आंकड़ा पार कर गई है। एक्टिव केस 935 हैं।


जिले में अब तक एक लाख 38 हजार 914 सैंपल लिए गए हैं। जिसमें एक लाख 33 हजार 611 की रिपोर्ट मिल चुकी है। शनिवार को सामने आए 96 नए मामलों के साथ अब जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5116 हो गई है। लगातार संख्या बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग की परेशानियां बढ़ गई हैं क्योंकि उसके ज्यादातर लोग वैक्सीनेशन की प्रक्रिया में लगे हुए हैं।


जिस तेजी से संक्रमण हावी हो रहा है उससे प्रशासन के सामने भी चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं। डीएम अपूर्व दुबे ने बताया कि अब तक 3415 लोग ठीक हो चुके हैं। 655 मरीज खुद को होम आइसोलेट किए हुए हैं। मौजूदा वक्त जिले में एक्टिव केस 935 हैं।

18 फ़र॰ 2021

दोआबा का बढ़ाया मान : लिपिक का बेसिक शिक्षक बेटा बना पीसीएस अफसर तो खागा की बेटी ने नायब तहसीलदार बनकर नाम किया रोशन

दोआबा का बढ़ाया मान : लिपिक का बेसिक शिक्षक बेटा बना पीसीएस अफसर तो खागा की बेटी ने नायब तहसीलदार बनकर नाम किया रोशन


लिपिक का बेटा पीसीएस अफसर

फतेहपुर। सहायक अध्यापक कमल प्रताप सिंह ने पीसीएस अफसर बनकर दोआबा का मान बढ़ाया है। पीसीएस में यह उनका दूसरा प्रयास था, जिसमें प्रदेश स्तर पर 47वीं रैंक हासिल की है। कमल का सपना, आईएएस अफसर बनकर देश की सेवा करना है। वह समाज को अपनी सेवाएं देना चाहते हैं।

असोथर ब्लाक के अढ़ावल गांव निवासी योगेंद्र सिंह सहायक संभागीय परिवहन विभाग में लिपिक हैं। बड़ा बेटा कमल प्रताप सिंह वर्ष 2016 में सहायक अध्यापक के पद पर चयनित होकर अब पीसीएस अफसर बन चुका है। जबकि छोटा बेटा विमल प्रताप एलएलबी की पढ़ाई कर रहा है। इकलौती बेटी नेहा बनारस के बीएचयू से डाक्टरेट की पढ़ाई कर रही है। बुुधवार को पीसीएस 2019 की परीक्षा का परिणाम आया तो कमल प्रताप की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

पिता भी बेटे की इस सफलता से फूले नहीं समा रहे हैं। यही वजह रही कि सारा दिन सहायक संभागीय परिवहन विभाग में जश्न जैसा माहौल रहा। कमल प्रताप का कहना है कि बेशक शिक्षा क्षेत्र में कर गुजरने को काफी कुछ है, लेकिन कैडर ग्रोथ नहीं है। उनका सपना आईएएस अफसर बनकर समाज को अच्छा बनाना है।



नायब तहसीलदार बनकर रोशन किया का नाम

खागा। कस्बा के मानू का पुरवा की रहने वाली अंकिता पाठक पुत्री स्व. रामलखन पाठक ने पीसीएस 2019 की परीक्षा में नायब तहसीलदार का पद हासिल कर नाम रोशन किया है।

पीसीएस परीक्षा का परिणाम घोषित होते ही परिवार में खुशियां छा गई। बेटी की सफलता की खबर पर मां मीरा पाठक, भाई विवेक, चेतन, विकास व राहुल भी झूम उठे। अंकिता ने कस्बे के सरस्वती बाल मंदिर इंटर कालेज से शुरुआती शिक्षा ली है। इसके बाद कस्बे के ही कमला बालिका इंटर कालेज से इंटर किया और स्नातक इलाहाबाद विश्वविद्यालय से किया है।

पीसीएस की तैयारी के लिए वह दिल्ली में रह रही थीं। भाई राहुल पाठक ने बताया कि उनके पिता का सपना था कि बेटी अफसर बनकर नाम रोशन करे। बहन ने पिता का सपना पूरा किया है।

11 जन॰ 2021

Fatehpur Live : 25 करोड़ की लागत से बनेगी नेशनल हाईवे के नउवाबाग मोड से राधानगर पुलिस चौकी तक (जेल रोड बाईपास) की सड़क

Fatehpur Live : 25 करोड़ की लागत से बनेगी नेशनल हाईवे के नउवाबाग मोड से राधानगर पुलिस चौकी तक (जेल रोड बाईपास) की सड़क



फतेहपुर: नेशनल हाईवे के नउवाबाग मोड से राधानगर पुलिस चौकी तक (जेल रोड बाईपास) की सड़क पिछड़े डेढ़ दशक से खस्ताहाल है। सड़क के आठ प्वाइंटों में दो-दो फिट के गड्ढे हैं जहां आए दिन वाहन फंस जाते हैं। तीन साल से इसके निर्माण की मांग तेज है। कई बार धरना प्रदर्शन और आंदोलन भी हो चुके हैं। अब इस मार्ग के निर्माण का रास्ता साफ हो गया है। जिला प्रशासन के प्रस्ताव पर शासन की ईएफसी (ई-फाइनेंस कमेटी) टीम ने इसके निर्माण को मंजूरी दे दी है।


शहर की लाइफ लाइन सड़क के रूप में प्रयोग होने वाले इस बाईपास से मुख्य आवागमन बांदा, चित्रकूट, हमीरपुर, मध्य प्रदेश की तरफ जाने और उपरोक्त जगहों से आने वाले वाहन मुख्यालय होकर लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर के लिए जाते हैं। इस सड़क की उपयोगिता इस लिए और बढ़ी, क्योंकि नये बाईपास कांधी-कोराई में वाहनों का आवागमन प्रतिबंधित है। 


जिला प्रशासन ने इसके निर्माण के लिए वर्ष 2020 में प्रस्ताव भेजा था। पहले इस प्रस्ताव को अधीक्षण अभियंता, इसके बाद मुख्य अभियंता और बाद में पीडब्लूडी मुख्यालय लखनऊ ने हरी झंडी दी थी। हर जगह से पास होने के बाद बीते दिन प्रस्ताव को शासन की ई-एफसी कमेटी के समक्ष वित्तीय सहमति के लिए रखा गया था। शासन की ईएफसी कमेटी ने इसे अलग-अलग दो भागों में पूर्ण कराने की सहमति प्रदान की है। यह सूचना जिले में पहुंचते ही लोगों में खुशी की लहर दौड़ गयी है।


■ जेल रोड बाईपास का पहला भाग
● नउवाबाग मोड़ से जयरामनगर चौराहे तक
● कुल दूरी - 4.7 किलोमीटर
● निर्माण लागत - 11.96 करोड
● सीसी प्वाइंट-अग्रसेन तिराहा, महर्षि मोड़, जेल के पास, तहसील के सामने, डीएम आवास के पास कुल 800 मीटर सीसी निर्माण शेष भाग में तारकोल वाली सड़क
● सड़क के दोनों पटरियों में नाले का निर्माण व डक्ट (तारों के लिए सर्विस लेन)
● निर्माण के लिए स्त्रोत- स्टेट हाईवे मार्ग


■ जेल रोड का दूसरा भाग
● जयराम नगर चौराहे से कटका मोड़ तक
● कुल दूरी- 7.50 किलोमीटर
● निर्माण लागत- 13 करोड़
● सीसी प्वाइंट: खंभापुर मोड़, राधानगर चौकी व अंडरपास के समीप कुल 2200 मीटर
● सड़क के दोनों पटरियों में नाले का निर्माण व डक्ट (तारों के लिए सर्विस लेन)
● निर्माण के लिए स्त्रोत- ओडीआर (अन्य, जिला मार्ग मद)



क्या बोले जिम्मेदार

जेल रोड बाईपास के लिए जो प्रस्ताव शासन भेजा गया था, उसे ईएफसी में मंजूरी मिल गयी है। उम्मीद है कि जल्द ही इसका जीओ जारी होगा, जीओ जारी होने के बाद इसका निर्माण कराया जाएगा। -अपूर्वा दुबे डीएम 

जेल रोड खस्ताहाल है, इस सड़क पर ट्रैफिक का मुख्य दबाव है। मौरंग व गिट्टी लदे वाहन इसी मार्ग से गुजरते हैं। धन अवमुक्त होने के साथ जल्द ही इसका निर्माण होगा। -ज्वाला प्रसाद, एई पीडब्लूडी

9 जन॰ 2021

Fatehpur Live : पुराना जीटी रोड बनेगा फोरलेन, 41 करोड़ मंजूर

Fatehpur Live :  पुराना जीटी रोड बनेगा फोरलेन, 41 करोड़ मंजूर


फतेहपुर : ढाई साल पहले अतिक्रमण के चलते शहर में हुई तोड़फोड़ अब सृजन की ओर बढ़ रही है। जिला अस्पताल के समीप चरक चौराहा और ज्वालागंज चौराहे में शहर का पहला फाउंटेन चौराहा बना तो अब सुंदरीकरण के लिए पीडब्लूडी के प्रस्ताव पर नउवाबाग से लोधीगंज बाईपास तक छह किलोमीटर पुराने जीटी रोड को फोरलेन बनाने के प्रस्ताव को हरी झंडी मिल गई है। 


शासन की ई-फाइनेंस कमेटी ने 41 करोड़ खर्च की सहमति देने के साथ बजट आवंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। शहर के अंदर से गुजरने वाला यह फोरलेन डिवाइडर युक्त होगा और दोनों तरफ पैदल फुटपाथ भी बनेगा।


वर्ष 2018 में पीडब्लूडी द्वारा अधीक्षण अभियंता को भेजे गए फोरलेन प्रस्ताव में 33 करोड़ का इस्टीमेट सौंपा गया था। जिसके बाद इसमें संशोधन करके इसे पुन: बनाकर भेजा गया। नए प्रस्ताव में बीच सड़क से दोनों तरफ नौ-नौ मीटर की सड़क और सड़क के मध्य में दो फिट का सीमेंटेड डिवाइजर डिजाइन कर सड़क के एक तरफ पांच फिट चौड़ा नाला व डक्ट (सर्विस लेन) रखी की जगह निर्धारित करते हुए दोनों पटरियों में करीब एक-एक मीटर का इंटरलाकिग फुटपाथ तय किया गया। इस नये प्रस्ताव में निर्माण की लागत 41 करोड़ रखी गयी, जिसे अधीक्षण अभियंता पीडब्लूडी ने स्वीकृत करते हुए अंतिम सहमति के लिए शासन की ई-फाइनेंस कमेटी के पास स्वीकृत हेतु भेजा था। 

पिछले दिनों शासन की उपरोक्त कमेटी ने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है। अब इसके लिए बजट आवंटन की प्रक्रिया भी शुरू होने जा रही है।


■  कैसा होगा फोरलेन स्वरूप
● फोरलेन का नाम- पुराना जीटी रोड
● फोरलेन की दूरी- छह किलोमीटर
● निर्माण के लिए जगह- 22 मीटर
● मौके पर खाली सड़क - 22 मीटर
● फोरलेन के लिए लागत- 41 करोड़

■  क्या क्या बनेगा इसे भी जाने
● सड़क मध्य से दोनो तरफ- नौ-नौ मीटर की सड़क
● सड़क के मध्य में दो फिट का सीमेंटेड डिवाइडर
● सड़क के एक तरफ पांच फिर में नाला व डक्ट लेन
● सड़क के दोनों तरफ एक-एक मीटर का इंटरलाकिग फुटपाथ


बदल जाएगा शहर का मुखौटा

शहर के अंदर प्रवेश करते ही यहां की सड़कें पिछडेपन का एहसास कराती है। पुराना जीटीरोड बनने से शहर का मुखौटा बदल जाएगा। खास करके नउवाबाग, गोपालनगर, डाकबंगला, आबूनगर, बाकरगंज, ज्वालागंज, शांतिनगर मोहल्ले की तस्वीर बदल जाएगी। इन स्थानों में लगने वाले जाम से निजात मिलेगी। 


पुरानी जीटी रोड को फोरलेन करने का जो प्रस्ताव भेज दिया था, उसकी ईएफसी शासन स्तर पर हो गई है। जिले के लिए यह बड़ी सौगात है। अब शासन से बजट आवंटित होने पर कार्य शुरू कराया जाएगा। हमारा प्रयास है कि और भी कुछ सड़कें हैं जिनका सुंदरीकरण कराने का प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा जाए ताकि शहर की तस्वीर बदल सके। -अपूर्वा दुबे, डीएम

2 जन॰ 2021

जनता का हित सर्वोपरि, नियम से होगा काम : फतेहपुर की नवागत जिलाधिकारी का एलान

जनता का हित सर्वोपरि, नियम से होगा काम : फतेहपुर की नवागत जिलाधिकारी का एलान


फतेहपुर: विशेष सचिव आवास-विकास एवं शहरी नियोजन पद से तबादले पर जिले पहुंची आइएएस अफसर अपूर्वा दुबे ने शनिवार को डीएम पद का पदभार ग्रहण कर लिया। कलेक्ट्रेट की ट्रेजरी में चार्ज लेने के बाद उन्होंने कलेक्ट्रेट भवन में स्थापित हर दफ्तर का घूमकर निरीक्षण किया। नजारत, अभिलेखागार, अंग्रेजी दफ्तर और अलग-अलग पटलों पर पहुंच कर कामकाज की पड़ताल की इसके बाद अफसरों के साथ बैठक कर जिले की भौगोलिक स्थिति की जानकारी ली।


2013 बैच की आइएएस अफसर अपूर्वा की गिनती तेज-तर्रार अफसरों में होती है। वह कलेक्ट्रेट के गांधी सभागार में पत्रकारों से रूबरू हुई। प्राथमिकता बताते हुए कहा कि जनता का हित सर्वोपरि है, जनता का काम पूरी ताकत के साथ नियम और मानक पर होगा। जनता से मुलाकात का समय तय होगा और समयबद्धता के साथ काम भी पूरे किए जाएंगे। एक सवाल के जवाब में कहा कि अवैध खनन ओवरलोडिग जैसे प्रकरण को वह खुद देखेंगी, नियमों का पालन करते हुए खनन होगा ओवरलोडिग भी रोकी जाएगी। उन्होंने जनपद से आवागमन करने वाले अफसरों को भी हिदायत दी कि अफसर हो या कर्मचारी उसे शासन से तय समय के अनुसार काम को पूरा करना होगा और दफ्तर में समय देना होगा। उन्होंने कहा कि आम जनता, राजनीतिक और प्रबुद्धजनों सहित मीडिया से स्वस्थ फीडबैक को भी तवज्जो दी जाएगी।


■ नए डीएम के बारे में जाने
● नाम- अपूर्वा दुबे
● आईएएस बैच- 2013
● पिता- संजय दुबे देवरिया
● ननिहाल- बेतिया बिहार
● सेवाएं- ज्वाइंट मजिस्ट्रेट वाराणसी, एसडीएम कानपुर देहात, सीडीओ अमेठी व फर्रुखाबाद रहीं।

11 नव॰ 2020

Fatehpur Live : जिला प्रशासन की सख्ती ने भगाई नगरपालिका की सुस्ती, ठंड से बचाव के लिए तैयार होने लगे रैन बसेरे

Fatehpur Live : जिला प्रशासन की सख्ती ने भगाई नगरपालिका की सुस्ती, ठंड से बचाव के लिए तैयार होने लगे रैन बसेरे


फतेहपुर : ठंड से बचाव के लिए प्रशासन रैन बसेरों का निर्माण कराया जाता रहा है। ठंड जल्द पड़ने के चलते नगर पालिका प्रशासन को इसकी सुधि नहीं रही है। शासन ने भले ही लोगों को ठंड से बचाव के लिए निर्देश दिए थे, लेकिन धरातल पर यह काम ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ था। जिला प्रशासन के सक्रिय होने के बाद रैन बसेरा निर्माण का कार्य शुरू हो गया है।


नगर पालिका ठंड से लोगों को बचाने के लिए शहर के रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन और जिला अस्पताल में तीन जगहों में रैन बसेरा बनाता आया है। रैन बसेरा के साथ ही इनमें ठंड को भगाने के लिए अलाव जलाने की व्यवस्था करता आया है। रात में खुले स्थानों में लोग न रात काटें इसके लिए नगर पालिका द्वारा बिस्तर और कंबल की व्यवस्था की जाती रही है। इन तमाम तैयारियों से रैन बसेरा को सरसब्ज करने के लिए नगर पालिका ने कमर कस ली है। 


तीन लाख की आबादी वाले शहर में तमाम लोग ऐसे होते हैं जो कमाई के लिए शहर आते हैं। और रात में फुटपाथ पर सो जाते हैं। गर्मी के दिनों में रिक्शा, ठेलिया, तथा मजदूरी करने वालों के लिए ठंड में रात काटना मुश्किल हो जाता है। शासन ने इन गरीबों को राहत देने के लिए रैन बसेरा बनाने के निर्देश दिए हैं।अधिशासी अधिकारी नगर पालिका मीरा सिंह ने बताया कि तीन अस्थाई रैन बसेरा बनाए गए हैं।इसके साथ नवीन मार्केट के पीछे स्थायी रैन बसेरा संचालित है। रैन बसेरा तैयार करने की रिपोर्ट डीएम को भेज दी गई है।